Friday, October 2, 2009

Begger - भिखारी

मेरा जन्मदिन था, दोस्तों के साथ खूब मस्ती करने के बाद मैं घर को रवाना हुई और बस में बेठ गई और बस के शीशे से सर टेक कर बेठ गई !

काफ़ी थक चुकी थी इसलिए मैंने थोडी देर के लिए आँखे बंद कर ली और ऐसे ही पुरे दिन की बातें सोच रही थी ! फ़िर थोडी देर में बस चलने लगी कुछ देर बाद बस एक बस स्टाप में रुखी और मेरी आँख खुली ॥ वहां से एक भिखारी बस में चडा और उसके हाथ में अक सितार था , फ़िर उसकी तरफ़ देखा मैंने और फ़िर शीशे पर टेक लगा लिया मैंने ... बस में रेडियो बज रहा था और थोडी देर बाद बस वाले ने रेडियो बंद कर दिया और एक बहूत प्यारी सी मधुर सी धुन बंजने लगी मेरी आंखे फ़िर खुली और देखा वोह भिखारी वोह धुन बजा रहा था

वोह इतना मधुर धुन बजा रहा था की बस में बेठा हर व्यक्ति उसकी धुन का आनंद ले रहा था । उसके सितार से निकली हर धुन मेरे पुरे दिन की थकन को दूर कर रही थी। और मनो ऐसा लगा की शायद वोह अपनी धुन में कह रहा हो " देखो मेरी हालत क्या है मेरी दुनिया क्या है और फ़िर भी मुझे किसी बात का दुख नही मेरे पास कला है जो मेरे जीने का जरिए है फ़िर भी लोग मुझे भखारी कहते है ''

वोह भखारी किसी की तरह नही देख रहा था वोह बस अपनी धुन बजा रहा था और मनो वोह अपनी ही धुन मा खोया हो... उसकी इस अनमोल कला को देख कर लग रहा था की उसके सामने मैं कुछ भी नही...

बस में बेठा हर व्यक्ति बिना उसके मांगे ही उसको अपनी मर्ज़ी से रुपये दे रहा था । येया भी नही की एक या दो रुपए बल्कि शायद ही किसी ने उसको पाँच रुपए से कम रुपये दिए हो॥ मनो उसने मेरे बर्थडे गिफ्ट दिया हो थो मैंने भी ख़ुद से ग्यारा रुपए निकाल कर उसको दिए !

फ़िर कुछ देर बाद लोग उससे अपने मन पसंद की धुन बजा रहे थे और वोह उस्सी बेहतरीन कला से सब की फरमाइश कर रहा हो॥ वोह थो सच में मेरी नज़र में अक रॉक स्टार था !

फ़िर मेरा बस स्टाप आया और मैं बस से उतर कर घर को जाने लगी , पर उस व्यक्ति की धुन अभी तक मेरे कानो में गूंज रही थी !

अब लग रहा था की क्यूँ इतनी कला से निपूर्ण होने के बाद भी लोग उसको भिकारी क्यूँ खेहते है क्या कोई नही जो उसको एक मुकाम दे सकता !

कुछ लाइन अर्ज़ कर रही हूँ इस घटना पर ...

जिन्दगी वक्त मांगती है ,
तरक्की को एक नई राह देने क लिए ,
इंसान उसी राह पर लगा देता है लगाम,
दुसरे को रुला, अपनी खुशी पाने के लिए !!

लेखिखा
"दिव्या "

20 comments:

  1. अच्छा लिखा आपने। कोई अमीर या गरीब अपने मन और सोच से ही होता है।

    ReplyDelete
  2. वाह!

    एग्रीगेटरों के द्वारा अपने ब्लॉग को हिंदी ब्लॉग जगत परिवार के बीच लाने पर बधाई।

    सार्थक लेखन हमेशा सराहना पाता है।

    मेरी शुभकामनाएँ

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  3. सुन्दर आलेखन के लिये बधाई.

    ReplyDelete
  4. शायद आपको पता ना हो कुमार गंधर्व के पुत्र मुकुल शिवपुत्र जो स्वयं एक अच्छे कलाकार हैं मध्यप्रदेश के कुछ शहरों में शराब के लिये दो-दो रूपये लोगों से मांगते पाये गये थे।
    ऐसा अक्सर होता है कि सच्चे कलाकार की कई बार कद्र नहीं होती और नक्कालों, दूसरों की धुनों को, कला को अपने नाम से प्रस्तुत करने वाले को हम सर आंखों पर उठा लेते हैं। कई उदाहरण आपको मिल जायेंगे।
    आपको नये चिट्ठे के लिये हार्दिक बधाई।
    ॥दस्तक॥|
    गीतों की महफिल|
    तकनीकी दस्तक

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ।

    Please remove word verification then it will be easy to comment.


    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छा लिखा है।

    ReplyDelete
  8. बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
    कृपया मेरे भी ब्लागस देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  9. कलाकार तो आज भी दुनिया में बहुत मिल जाएंगे लेकिन उनके पारखी मिलना मुश्किल है....

    ReplyDelete
  10. आपको पढ़कर अच्छा लगा दिव्या जी। कथ्या से ज्यादा आपके संवेदनशीलता ने मुझे प्रभावित किया। संवेदनाएं बची रहे यही खुशी की बात है। आपके इस सार्थक लेखन के लिए बधाई। साथ ही आग्रह है कि पोस्ट करने से पहले सम्पादन अवश्य करलें ताकि भाषा संबंधी अशुद्धियों में कुछ तो कमी आ जायेगी। शुभकामना।

    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
    यहाँ भी आयें आपके कदमो की आहट इंतजार हैं,
    http://lalitdotcom.blogspot.com
    http://lalitvani.blogspot.com
    http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
    http://ekloharki.blogspot.com
    http://adahakegoth.blogspot.com
    http://www.gurturgoth.com
    http://arambh.blogspot.com
    http://alpanakegreeting.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. आपके लेखन की सूक्ष्‍मता मन को प्रभावित करने वाली है । आज की दुनिया में धनोंपार्जन ही सामान्‍यत: लक्ष्‍य हो गया है । आज के भौतिकतावादी समाज में अगर कोई अपनी कला या अध्‍यात्‍म की अतंरयात्रा की साधना लीन रहे अर्थोपाजन को ज्‍यादा महत्‍व न दे, कला में डूबा रहे,तो उसे दुनिया भिखारी ही समझती हैं जबकि देखा जाए तो वास्‍तविक धनी तो अतंरयात्रा में डूबा हुआ पथिक ही है।

    ReplyDelete
  13. " bahut hi accha laga aapko padhker ...aapko is post ke liye badhi "

    ----- eksacchai{ aawaz }

    http://eksacchai.blogspot.com

    http://hindimasti4u.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. Aap sabi logo ka main Dil se shukriya karti hun ki aapne apna kimti waqt nikaal kar mere blog ko pada aur Dil se saraha..

    Aap sab k comments se aaj Dil bahoot kush hua hai..

    Shukriya !

    ReplyDelete
  15. चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. आप बहुत अच्छा लिख रहे हैं, और भी अच्छा लिखें, लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
    ---

    ---
    हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

    ReplyDelete
  16. Thank you so so much NaradMuni ji and Amit Ji..

    ReplyDelete
  17. Swagat hai,
    Kabhi yahan bhi aayen
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. बढिया लिखा आपने .. इस नए ब्‍लाग के साथ हिन्‍दी चिट्ठा जगत में आपका स्‍वागत है .. उम्‍मीद करती हूं .. आपकी रचनाएं नियमित रूप से पढने को मिलती रहेंगी .. शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete